#iamgwalior

673 posts

Loading...
Mansingh Palace, Gwalior fort, Gwalior. This imperial-style palace, built by Tomar ruler Man Singh between 1486 and 1516, is definitely one of India's more quirkily decorated monuments: its colourful exterior tilework includes a frieze of yellow ducks and mosaics of elephants, crocodiles and tigers in blue, yellow and green! Hence its alternative identity of Chit Mandir (Painted Palace). Man Singh, a connoisseur of the arts, would surely be delighted to know that his creation is now considered the only intact pre-Mughal palace in India. Pic by- @picture_baba Caption- Lonely Planet - #gwaliorites #gwalior #gwaliordiaries #madhyapradesh #india #iamgwalior #discoveryindia #weloveindia #increadibleindia #travelgoals #travel #travelindia #travelpic #traveler #landscapehunter #landscape #hashtagindia #landscapephotography #igramming_india #indiaclicks
TELI KA MANDIR (Side view) also known as Telika Temple, is a Hindu temple located within the Gwalior Fort in Madhya Pradesh, India. Dedicated to Vishnu, Shiva and Matrikas. It is an unusual Hindu temple, as it has a rectangular sanctum instead of the typical square. It integrates the architectural elements of the Nagara style and the Valabhi prasada that looks like the Dravidian wagon-vault topped gopuram superstructure. The temple is based on a Pratihara-Gopagiri style North Indian architecture. The temple is a classic example of a design based on "musical harmonics" in architecture, one that Hermann Goetz called as a masterpiece of late Gupta era Indian art. pic by @keep_that_smile._.picture - #gwaliorites #gwalior #gwaliordiaries #madhyapradesh #india #iamgwalior #discoveryindia #weloveindia #increadibleindia #travelgoals #travel #travelindia #travelpic #traveler #landscapehunter #landscape #hashtagindia #landscapephotography #igramming_india #indiaclicks
"ZERO" . The second Oldest records of "zero" in the world was found in a small temple, which is located on the way to the top. The inscription is around 1500 years old. Pic by Mr. @nickography_ - #gwaliorites #gwalior #gwaliordiaries #madhyapradesh #india #iamgwalior #discoveryindia #weloveindia #increadibleindia #travelgoals #travel #travelindia #travelpic #traveler #landscapehunter #landscape #hashtagindia #landscapephotography #igramming_india #indiaclicks
#repost @prabhat_murti_kala_kendra Only Sculpture park of Madhya Pradesh... We had installed more than 600 statues in panindia including france too... Please do share to all MP''s people .. Worlds First alloy Metal maded Thirteen Shivling of world. Asia's Biggest Metal Statue of Hanuman Ji in sitting Posture. Indias First queen statue whos sitting on throne. Indias Biggest Bell. First Gold plated Statue. . #gwaliorites #gwalior #gwaliordiaries #madhyapradesh #india #iamgwalior #discoveryindia #weloveindia #increadibleindia #travelgoals #travel #travelindia #travelpic #traveler #landscapehunter #landscape #hashtagindia #landscapephotography #igramming_india #indiaclicks
MOTIMAHAL Built in the 19th century, Moti Mahal is situated in the Gwalior District of Madhya Pradesh. It is one of the worth-visiting palaces in the old town of Gwalior. Once, this palace was the secretariat of Madhya Bharat Governmente garden has extensive network of stone fountains which lend a unique splendor. Pic by @pakhiaroraphotography - #gwaliorites #gwalior #gwaliordiaries #madhyapradesh #india #iamgwalior #discoveryindia #weloveindia #increadibleindia #travelgoals #travel #travelindia #travelpic #traveler #landscapehunter #landscape #hashtagindia #landscapephotography #igramming_india #indiaclicks
The Surya Mandir, Gwalior or the Sun Temple was constructed in 1988 by G.D Birla, the famous industrialist of India. It is influenced by the famous Sun Temple at Konark in Orissa. Pic by @_.snap._.shots._ - #gwaliorites #gwalior #gwaliordiaries #madhyapradesh #india #iamgwalior #discoveryindia #weloveindia #increadibleindia #travelgoals #travel #travelindia #travelpic #traveler #landscapehunter #landscape #hashtagindia #landscapephotography #igramming_india #indiaclicks
सास बहू मंदिर (सहस्त्रबाहु मंदिर), ग्वालियर किला, ग्वालियर । Pic by Mr. @muskuratamusafir - #gwaliorites #gwalior #gwaliordiaries #madhyapradesh #india #iamgwalior #discoveryindia #weloveindia #increadibleindia #travelgoals #travel #travelindia #travelpic #traveler #landscapehunter #landscape #hashtagindia #landscapephotography #igramming_india #indiaclicks
ग्वालियर में बेपटरी हुई मालगाड़ी से टकराई भोपाल एक्सप्रेस , ड्राइवर बेहोश, शहर के बिरला नगर स्टेशन पर एक मालगाड़ी बेपटरी हो गई, इसके बाद वहां से गुजर रही भोपाल एक्सप्रेस उससे टकरा गई। हादसे में ट्रेन का ड्राइवर बेहोश हो गया। घटना में ओएचई लाइन भी प्रभावित हो गई। यहां से गुजरने वाली ट्रेनों को कुछ देर के लिए रोक दिया गया है। सूचना मिलने के बाद डीआरएम भी घटनास्थल पर पहुंच गए थे, उन्होंने इस घटना की जांच करने की बात कही है। शॉर्ट सर्किट से स्टेशन के कैंटीन में लगी आग बताया जा रहा है ट्रेनों के टकराने के बाद ओएचई लाइन को बंद नहीं किया गया, इसके बाद शॉर्ट सर्किट की वजह से ग्वालियर स्टेशन पर कैंटीन में आग लग गई। जिससे यहां अफरा-तफरी भी मच गई थी। सूचना मिलने के बाद नगर निगम का दमकल दस्ता मौके पर पहुंचा और आग बुझाई। (सोर्स- नई दुनिया) - #gwaliorites #gwalior #gwaliordiaries #madhyapradesh #india #iamgwalior #discoveryindia #weloveindia #increadibleindia #travelgoals #travel #travelindia #travelpic #traveler #landscapehunter #landscape #hashtagindia #landscapephotography #igramming_india #indiaclicks
Archeological Museum  The museum had a collection of old history sculptures and structures brought from different parts of Madhya Pradesh which were the belonging of the late kings. Every piece is worth watching! Pic by @backpackingwithmylens - #gwaliorites #gwalior #gwaliordiaries #madhyapradesh #india #iamgwalior #discoveryindia #weloveindia #increadibleindia #travelgoals #travel #travelindia #travelpic #traveler #landscapehunter #landscape #hashtagindia #landscapephotography #igramming_india #indiaclicks
Saas-Bahu temple (Sahastrabahu) is an 11th century twin temple located near Gwalior Fort and dedicated to Lord Vishnu. It is mostly in ruins and was badly damaged from numerous invasions and Hindu-Muslim wars in the region. In the picture, Bahu Temple as seen from Saas temple. Pic by @fernweh_shweta - #gwaliorites #gwalior #gwaliordiaries #madhyapradesh #india #iamgwalior #discoveryindia #weloveindia #increadibleindia #travelgoals #travel #travelindia #travelpic #traveler #landscapehunter #landscape #hashtagindia #landscapephotography #igramming_india #indiaclicks
करीब सवा दो सौ सालों से अधिक प्राचीन मुरार का क्राइस्ट चर्च पैसे कलेक्ट कर निर्मित किया गया था। जिसमें मुख्यत: ब्रिटिश आर्मी के अफसर प्रार्थना करने जाया करते थे। ये चर्च ब्रिटिश आर्किटेक्ट का नायाब नूमना है। जो बलुआ पत्थरों से निर्मित किया गया है। चर्च के फादर एचएन मसीह बताते हैं कि ये चर्च 1775 में तैयार हुआ था। जिसकी पुष्टि 1844 के बंदोवस्त के उस डॉक्युमेंट में होती है। जिसमें कहा गया है कि इस काल में ये करीब 75 वर्ष पुराना है। पुराना घंटा है आकर्षण इस चर्च के लिए सिंधिया वंश के महाराजा माधव राव सिंधिया ने घंटा प्रदान किया था। जिसे विशेष अवसरों पर बजाया जाता है। लॉयल्टी कंपनी का ये घंटा जून 1915 में चर्च को भेंट किया गया था। जिसके प्रमाण के लिए बकायद दीवार पर एक लेख लिखा हुआ है। ये घंटे अब 100 वर्ष का हेरिटेज बन चुका है। सेंट पीटर के नाम से जाना जाता था चर्च फादर एचएन मसीह ने बताया कि क्राइस्ट चर्च को सेंट पीटर्स चर्च के नाम से भी जाना जाता था। पहले इसका स्वामित्व चर्च ऑफ इंग्लैंड के हाथों में था। जिसे बाद में इन्होंने चर्च एक्ट 1927 के तहत चर्च ऑफ इंडिया (सीआईपीबीसी) और इंडियन चर्च एक्ट के तहत डाइसिस ऑफ नागपुर को हस्तांतरित कर दिया। जिसके वर्तमान फादर एचएन मसीह पेरिस प्रीस्ट व मेट्रोपोलिटन कमिश्नरी डाइसिस ऑफ नागपुर हैं। जिनका कार्यक्षेत्र मप्र, छत्तीसगढ़, राजस्थान और महाराष्ट्र का विदर्भ क्षेत्र है। मसीह कहते हैं कि क्राइस्ट चर्च पूरे विश्व में एक जैसे होते हैं। जिनके लेफ्ट में डाइस और राइट में वेबटिज्म (बबिस्तां) करने का स्थान होता है। इनका आर्किटेक्ट भी एक तरह का होता है। ये जमीन तल से सीधे खड़े किए जाते हैं। इनमें कोई बालकनी नहीं होती। चर्च निर्माण में फादर गोम्स ने निभाई थी मुख्य भूमिका देश की आजादी से पहले मुरार ब्रिटिश आर्मी का केंटोमेंट एरिया था। इसलिए यहां से चर्च निर्मित हुआ। जिसमें फादर गोम्स की मुख्य भूमिका रही थी। इसे एंगलीकरन चर्च ऑफ इंग्लैंड की ओर से ब्रिटिश शासन के प्रोटेस्टन समुदाय के आर्मी में कार्यरत अधिकारियों से पैसे एकत्रित कर तैयार कराया गया था। जब 1857 की पहली क्रांति हुई।तब इसी चर्च के नजदीक रहने वाले अधिकारियों और उनके बच्चों की युद्ध में मौत हो गई थी। जिनकी कब्रें चर्च से करीब दो किलोमीटर दूरी पर बनी हुई हैं। चर्च में उस काल में मारे गए ब्रिटिश अधिकारियों के नाम भी अंकित हैं। . Pic by @the_.lost_.girl Text- Patrika news - #gwaliorites #gwalior #gwaliordiaries #madhyapradesh #india #iamgwalior #discoveryindia #weloveindia
next page →