#imaginatones

1,235,885 posts

Loading...
Man and machine!
- We love Evolution🇯🇵📸
Photo by: @stefanogelli_photography ~~~~~ Just IMAGINE
Built 143 years ago, it has seen through it all. The growth of the city, typhoons that swept its shores, even the suffering of World War II. Time has gone by but the elegant torii of Itsukushima Shrine prevails, like a wise ol’ guardian of peace and hope ✨ // 📸 XF 16-55mm f2.8
Photo by: @travelinbloke ~~~~~ Tag us in your picture to be featured
Hongdae Street Performers...
🎼 @destroyangels - And the Sky Began to Scream
👁
🍕 time..
Die wichtigste Person an die du glauben musst, bist du selbst.
Out of the neon room into the neon streets! . Check out the other shots from this set on @sheribubble ! Shooting along with @corndogliam . . . . #sonyaustralia #melbournephotographer #travelforlife #citykillerz #urbanandstreet #imaginatones #wpics #portraitphotography #neonlights
From Bergen 2018
🇮🇹
the other side
Единый Диспетчерский Центр «Аэроэкспресс» в Шереметьево — это: ⠀ -контроль над движением поездов «Аэроэкспресс»; -оперативный контроль обслуживания подвижного состава и инфраструктуры терминалов; -контроль безопасности пассажирских перевозок на всем пути следования; мониторинг очередей у касс; -система видеоотображения, обработки, хранения и резервирования данных. -421 камера. ⠀ Все под контролем. Автор фото: Марк Кожура ____ Centralized Aeroexpress Dispatch Center in Sheremetyevo provides: • Aeroexpress trains traffic control; • operational monitoring of trains maintenance and terminals infrastructure; • passenger traffic safety control on routes; • monitoring of passenger lines at ticket offices; • video display system, processing, storage and backup of data; • 421 surveillance cameras. Everything's under control. Photo by: Mark Kozhura.
hingga pada masanya, Rembulan akan berpisah dengan para umat yg bersemayam lelap di malam hari. Yang Pasti, setelahnya, tanpa janji dan ikrarpun ia mampu membuktikan bahwa ia akan hadir kembali. . . #swag #boudoirphotography #lfl #lifestyle #tbt #smkn1kaidipang #Alhamdulillah #picoftheday #quotes #agameoftones #art #justgoshoot #philosophy #urbanphotography #urban #bwstyles_gf #bnw_captures #imaginatones #snowisblack #ig_masterpiece #50mm #glamourshots #bnw_globe #portrait_perfection #artofvisuals #portraitmood #vogue #street_photo_club #sahabataan
Inu
Snoopy.
Lurkin
लेखिका जीं, चन्न दिनों से कुछ, निराश सी लग रहीं हैं... 🍁 कहानी कीं, दो लाइनें सुना, क़रीब तो बुलातीं हैं, फिर हमें बग़ल में बैठाये, नाक चड़ाए, वहीं पुराने, घिससे-पिटे से, दुखड़े सुनने लग जाती हैं... अब, हम ठहरे दूसरों की कहानियों को, अपना बनाकर बताने वाले, सदियों पुराने हीरो-हेरोईनों को, नयीं पैकिजिंग में चिपकाने वाले... इतनी फ़ुर्सत किसके पास हैं, कीं एक कोरें-काग़ज़ को इतनी ध्यान से पढ़ें? जों लेखिका जीं के दिमाग़ से गुज़रे, उन्न कहानियों को , दिल से, महसूस कर, पेपर पर, पूरी शिद्दत से भरें? 🍁 मगर लेखिका जीं, काफ़ी ढीट मालूम होती है। वैसे तो आवाज़ दो, और देते हीं रहों, तो ये बिलकुल नज़र नहीं आती... और जब मान लो, कीं ये मर गयीं, या फिर, वापिस मेरे घर गयीं, तो, तकलीफ़ों कीं पेटी उठायें, रोंधि सीं शक्ल बनायें, हमारी बिन-बुलायीं मेहमान, दिमाग़ के सबसे, ऊपर वाले कमरें में सोती हैं... सों के जब वो आख़िर जागें, वो पीछे-पीछे, हम आगे-आगे... ख़यालों और पंखतियों के बीच जैसे, रेस लगें, और चारों भागें... 🍁 “अंग्रेज़ी में इससे, “राइटरज़ ब्लाक” कहते हैं, तुम जों लिखतीं हों वो...ख़ैर छोड़ो! मगर इसके बारे तुमने सुना तो ज़रूर होगा... नए हों, या सेकंड-हैंड, इस मुश्किल दौर से सभी गुज़रते हैं... कोई बात नहीं, ये कुछी ही दिन का रोग हैं। तुम्हारे पास आगलें कुछ दिन कोई काम नहीं... और मेरे दिमाग़ कीं खिड़की अभी-अभी खुली हैं, बोलों, क्या संजोग हैं? चालों, आज कुछ तुम्हारा लिखते हैं... मालूम हैं, तुम्हें इसकी आदत नहीं रहीं, मगर इसी लियें तो मैं आई हूँ। और देखो, अपनी शिकायतों कीं पेटी में, कितनी सारी पुरानी कहानियाँ लायीं हूँ... इन पुरानी कहानियों को पढ़ते हैं, एक नयीं कहानी कीं यें बेस्ट शुरुआत हैं... यें 100% अरिजिनल ख़याल हैं.. ना हीरो-हिरोईनों के डाइयलोग, ना ही हिट फ़िल्मी कीं लाइनें हैं। यें किसी की आप-बीती हैं, किसी ने कभी बोहोत दिल से लिखीं थीं... येहीं इसके असली मैयने हैं। 🍁 तुम्हें पता हैं, यें कहानी किसने लिखीं? तुम शायद उसे कभी जानती थी। मैं ग़लत नहीं, तो तुम दोस्त हुआ करते थे? तुम्हारा पता नहीं, वो तो कहती हैं, वो तुम्हें ज़रूर पहचानती थीं... मैं समझ सकती हूँ, नौकरी मिलते हीं, लोग अक्सर “कूल” हो ही जाते हैं... करीअर की आड़ में, बिलों और सैलरी के संसार में, दोस्तो तो अक्सर भूल हीं जाते हैं... हाँ, तो में क्या कह रही थी? तुम जानती हो इन कहानिया किसने लिखीं? वो, जिसका ख़याल भी आप मानो जैसे पाप हैं... तुम भूल जाओं, यें फिर भी दोहराती रहेंगी, कि,लेखिका जीं, वो तो आप हैं
Lunch
Happy National Architecture Week! Off of my bucket list, got a chance to visit Seattle's Central Library OMA + LMN Architects #architecturephotography #seattle #architectureporn
next page →